• उपभोक्तावाद और परिवार

    Author(s):
    Pramod Ranjan (see profile)
    Date:
    2022
    Group(s):
    Sociology
    Subject(s):
    Consumption (Economics), Globalization--Social aspects, Free trade, Families, Social change
    Item Type:
    Essay
    Tag(s):
    Impact of Consumerism on Family Relationships, indian society
    Permanent URL:
    https://doi.org/10.17613/qfy0-2n70
    Abstract:
    इस लेख में उपभोक्तावाद के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं की चर्चा की गई है। लेख में बताया गया है कि उपभोक्तावाद परिवार की सामंती संरचना को तोड़ता है, तथा आधुनिक मूल्यों की स्थापना करता है। लेकिन इसके अनेक नकारात्मक पहलु भी हैं। इसके कारण कम आय वर्ग के परिवारों में पारंपरिक मूल्यों के ध्वस्त होने के कारण कई ऐसी दर्दनाक घटनाएं होती हैं, जिसके बारे में पहले सोचा भी नहीं जा सकता था।
    Metadata:
    Published as:
    Journal article    
    Status:
    Published
    Last Updated:
    1 year ago
    License:
    Attribution

    Downloads

    Item Name: pdf उपभोक्तावाद-और-परिवार-जनविकल्प-प्रमेाद-रंजन.pdf
      Download View in browser
    Activity: Downloads: 34